ALGORITHM IN HINDI

Algorithm in Hindi दुनिया की तरक्की में आज सबसे बड़ा हाथ Computer और Internet का है, Computer की मदद से लोगों का जीवन तो आसान हुआ ही है, साथ ही कई लोग Computer व Internet के जरिये लाखों रुपये कमा भी रहे है| 

तो अगर आप भी इस Digital Career Field में आगे बढ़ना चाहते है तो पको Computer के Main Base यानी Algorithm kya hai के बारें में जरुर जानना चाहिए|

इस आर्टिकल में हम आपको Algorithm Kya Hai, Algorithm के उपयोग, एल्गोरिथम के फायदे व नुकसान के साथ, लोकप्रिय Facebook व Google Algorithm के बारे में भी पूरी जानकारी दे रहे है, तो पूरा आर्टिकल जरुर पढियेगा|

Algorithm Kya Hai? – What is Algorithm in Hindi

Computer Algorithm समझने से पहले आइये Algorithm का आसान मतलब समझते है| हम सभी एल्गोरिथम का इस्तेमाल रोजाना अनेक बार करते है|

दरअसल Algorithm Meaning in Hindi है किसी भी समस्या का चरणबद्ध तरीके से समाधान निकालना, यानी की किसी भी Work या Problem को छोटे छोटे स्टेप में Divide करके समाधान निकालने को ही Algorithm in Hindi कहते है|

एल्गोरिथम को किसी भी समस्या का समाधान निकालने का Step by Step Procedure भी कहते है| आइये इसे एक Real Life Example से समझते है|

मान लीजिये आपको गरमा गरम मसाला चाय पीनी है, उसका एल्गोरिथम कुछ इस प्रकार होगा|

 

मान लीजिये आपको गरमा गरम मसाला चाय पीनी है, उसका अल्गोरिथम कुछ इस प्रकार होगा।

  1. सबसे पहले लाइटर से गैस ऑन करें|
  2. उसपर पतीले में दूध को उबालें|
  3. पतेली में स्वादानुसार चाय पत्ती और चीनी डालें|
  4. एक दो उबाल आने के बाद अदरक और इलायची डालें|
  5. चाय को कड़क होने दे|
  6. अब गैस बंद करके चाय को छन्नी की मदद से छान ले|
  7. आपकी गरमा गरम मसाला चाय तैयार है|

इस तरह से Algorithm kya hai समझने के लिए आप कई Daily Life Examples देख सकते है, जो की स्टेप बाय स्टेप प्रोसीजर से ही किये जा सकते है|

आइये अब आगे बढ़ते है और जानते है Computer Algorithm kya Hai.

कंप्यूटर एल्गोरिथम क्या है? – What is Computer Algorithm in Hindi

कंप्यूटर में हम सब काम लगभग Algorithm से ही करते है या यूँ कहें की Computer Programming पूरी तरह से Algorithm पर ही चलती है|

Computer में कोई भी काम करने के लिए Software/Application की जरुरत होती है| उस सॉफ्टवेर को बनाने के लिए Programmers Step by step Coding करते है|

Coding करने की इसी Well Defined Procedure को Algorithm in Hindi कहा जाता है| Algorithm को हमेशा Coding से पहले बनाया जाता है और इसी के base पर coding की जाती है|

Programmers Algorithm से Flow Chart भी बनाते है| जो की पूरी प्रोसेस को Graphical Way में Represent करता है|

एल्गोरिथम के प्रकार – Types of Algorithm in Hindi

Algorithm के Types उन Concepts के Base पर Classify होते है, जिनका उपयोग हम Task Complete करने के लिए करते है| हालांकि Computer Algorithm Types तो बहुत है, लेकिन यहां हम आपको Most Fundamental Types के बारे में बता रहे है|

1. Divide and conquer algorithms –एल्गोरिथम के इस प्रकार में एक बड़ी समस्या को छोटी छोटी समस्याओं में विभाजित किया जाता है और उन छोटी समस्याओं का हल  निकाला जाता है, फिर उन्हें संयोजित करके Original Problem का Solution लाया जाता है, Algorithm का ये प्रकार काफी लोकप्रिय है|

2. Brute force algorithms –एल्गोरिथम के इस प्रकार में एक Satisfactory Solution निकालने के लिए सभी संभव समाधानों को आजमाने की कोशिश की जाती है|

3. Randomizedalgorithms – जैसे की नाम से ही पता चल रहा है, एल्गोरिथम के इस प्रकार में Problem का Solution खोजने के लिए कम से कम एक बार Random Number का इस्तेमाल किया जाता है|

4. Greedyalgorithms – एल्गोरिथम के इस प्रकार में Local Level पर Optimal Solution खोजने के इरादे से पूरी प्रॉब्लम का ऑप्टीमल सलूशन खोजा जाता है|

5. Recursivealgorithms – एल्गोरिथम के इस लोकप्रिय प्रकार में सबसे पहले किसी भी समस्या के Lowest और Simplest version का Solution निकाला जाता है.

फिर उससे थोड़े Complex version का समाधान निकाला जाता है, ऐसे करते हुए तब तक Solutions निकालें जाते है, जब तक Original Problem का Solution ना मिल जाए|

6. Backtracking algorithms– Problem को Subproblems में Divide किया जाता है, जिनमे से प्रत्येक Subproblem का Solution निकालने की कोशिश की जाती है| 

हालांकि एल्गोरिथम के इस प्रकार में जब तक Desired Solution ना मिल जाए तब तक ये Backwards जाता है और जब Solution का रास्ता मिलता है तब ये Forward जाकर समाधान ढूंढ लेता है|

7. Dynamicprogramming algorithms – इस टाइप के एल्गोरिथम में Complex problem को simpler subproblems में बांटा जाता है और फिर उन सभी sub problems का solution निकाला जाता है.

साथ ही उन subproblems के solutions को future use के लिए स्टोर कर दिया जाता है, ताकि भविष्य में वहीं समस्या आये तो समाधान पहले से ही तैयार हो|

इन सभी Types of algorithm in Hindi का इस्तेमाल Computer Programming में अलग अलग जगहों पर किया जाता है| लेकिन एल्गोरिथम बनाने से पहले और

Algorithm In Hindi जानने के बाद एल्गोरिथम की विशेषताएँ जानना जरूरी है|

एल्गोरिथम की विशेषताएँ – Characteristics of Algorithm in Hindi

किसी भी एल्गोरिथम को लिखने के लिए एक Computer programmer को कई बातों का ध्यान रखना होता है, तब ही वो Error Free Perfect Algorithm बना सकते है, तो आइये जानते है एक Perfect Algorithm की विशेषताएँ

Finitenessकोई भी एल्गोरिथम काफी बड़ा ना होकर कुछ सिमित Steps में ख़तम हो जाना चाहिए, वहीँ कोई भी एक स्टेप एल्गोरिथम में कुछ बार ही रिपीट होना चाहिए|

Input SpecifiedComputer में या फिर Daily Life में भी किसी भी काम को करने के लिए कुछ जरूरी चीजों की आवश्यकता होती है, जिसे Input कहा जाता है, एक Perfect Algorithm में 0 या उससे ज्यादा Inputs होने चाहिए|

Output Specified: एक एल्गोरिथम के सभी स्टेप्स फॉलो हो जाने के बाद क्या Output मिलेगा, ये भी पहले से Define किया हुआ होना चाहिए|

Unambiguousशब्द से ही आप समझ गए होंगे की एल्गोरिथम लिखने की पूरी प्रक्रिया स्पष्ट होनी चाहिए| जो Algorithm स्पष्ट नहीं होता वो हमारा Time और Resources बर्बाद कर सकता है, यानी की उससे Problem का Solution मिलना कठिन हो सकता है|

Feasibleइस शब्द का अर्थ होता है संभवता, आप एल्गोरिथम बनाकर जो कार्य करने वाले हो वो कार्य करना संभव है कि नहीं, और उस कार्य को करने के लिए आपके पास Data and Resources है या नहीं? अगर है, तो आप बेजिज़क Algorithm in Hindi बना सकते हो|

Language Independent: किसी भी Algorithm की Design हमेशा Language Independent होनी चाहिए| यानी की आपका एल्गोरिथम सिर्फ Plain Instructions से ही बना होना चाहिए, जिसे किसी  भी Language में Implement करने से Output Same ही आये|

एल्गोरिथम का उपयोग क्यों किया जाता है?

What is Algorithm in Hindi में हमने जाना की एल्गोरिथम किसी भी Problem का आसानी से Solution निकालने की Step by Step प्रक्रिया है| जिसकी मदद से किसी भी समस्या का समाधान निकालना आसान हो जाता है|

कई बार हम सभी किसी Problem में फंस जाते है और पता ही नहीं चलता कहाँ से शुरुआत करने पर Solution मिलेगा| ऐसी परिस्थितिओं में Step by Step काम करना या Algorithm बनाकर उसके मुताबिक़ काम करना Easy होता है| इसके पीछे के कारण निम्न मुताबिक़ है|

  • Algorithm को Designs करते वक्त Problem के अनुसार कई निश्चित Steps पहले से तय किये जाते है|
  • Algorithm के Steps को Sequence में Follow करने से ही Problem का Solution या Input का Output मिलता है|
  • एल्गोरिथम की मदद से हम Task को Perform करके Output प्राप्त कर सकते है|
  • एल्गोरिथम में Problem का Solution करने के लिए कई तरह के Different Steps पहले से ही निर्धारित किये जाते है, जिसकी वजह से समाधान आसानी से मिल जाता है|

कुल मिलाकर Algorithm हमें किसी भी काम को परिणाम तक पहुंचने के लिए कैसे करना होगा उसकी जानकारी देता है| इसलिए एल्गोरिथम का इस्तेमाल किया जाता है|

एल्गोरिथम का उपयोग कहाँ होता है? – Uses of Algorithm in Hindi.

जैसा की हमने आपको बताया चाय बनाने से लेकर जटिल computer programming तक हर जगह हम किसी ना किसी रूप में एल्गोरिथम का इस्तेमाल करते ही है| 

इसका उपयोग Science, Maths, Artificial Intelligence और Computer Programming जैसी फ़ील्ड्स में सबसे ज्यादा किया जाता है|

आइये Uses of Algorithm के कुछ Examples देखते है|

Operating System Algorithm:

Mobile Phones, Laptop, Tablet और Computer जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को चलाने के लिए जो Operating System बनाए जाते है, उनके काम करने के तरीकों को Algorithm से ही Design किया जाता है|

जैसे की आप एक मोबाइल में Multitasking कर रहे हो तो इन tasks को Priority के Base पर मोबाइल के Operating System द्वारा Process किया जाता है, जिसे Scheduling Algorithm कहा जाता है|

Internet Algorithm:

इन्टरनेट का इस्तेमाल हम सभी करते है और इस वक्त आप What is Algorithm in Hindi आर्टिकल भी इन्टरनेट पर ही पढ़ रहे है|

Internet भी Clever and Creative Algorithms का ही एक Outcome है| Internet पर मौजूद कई sites अपनी बहुत सारी Data को Algorithm की मदद के साथ ऑपरेट करती है|

Electronic Commerce:

रोजाना इस्तेमाल की जाने वाली Electronic Commerce Activities बड़े पैमाने पर हमारी डाटा पर निर्भर करती है| 

जैसे की Debit or Credit Card Numbers, OTPs, Passwords और भी बहुत कुछ ! वहीँ Centre Technologies Public Key और Digital Signatures का इस्तेमाल करती है| ये सभी Processes Mathematical Algorithms पर निर्भर करती है|

Facebook Algorithm:

कई लोगों का ये सवाल होता है की Facebook Algorithm Kya Hai,तो आपके Facebook Account की News Feed में उसी प्रकार की Post दिखती है, जिन्हें आप ज्यादा पसंद करते है या Search करते है|

वहीं दूसरी ओर Facebook पर कुछ पोस्ट्स काफी Viral हो जाती है वहीं कुछ पोस्ट्स पर बिलकुल भी Engagement नहीं हो पाती| 

इसके अलावा आपकी News Feed में सिर्फ वहीं Advertise Show होती है, जिसके बारें में आपके कही ना कही और कभी न कभी सर्च किया है| Facebook के ये सभी Features एक जटिल एल्गोरिथम पर काम करते है|

सिर्फ Facebook ही नहीं बल्कि लगभग सभी Social Media Platforms अपने Users को बेहतर अनुभव देने के लिए एल्गोरिथम का ही इस्तेमाल करते है| 

जैसे की अगर हम YouTube पर कुछ गाने सुनते है तो उन गानों की My Music Playlist बन जाती है, ताकि अगली बार जब आप गाने सुनना शुरू करें तो आपके मन पसंदीदा गाने एक के बाद एक करके बजने लगे|

Google Algorithm:

Internet पर करोडो websites के करोडो blogs मौजूद है, लेकिन जब कोई user कुछ particular keyword search करता है तो Google के Search Engine Result Page (SERP) पर कुछ Popular Sites के Blogs ही दिखाई देतें है|

बेहतर Search Results के लिए Google Ranking Algorithm का इस्तेमाल करता है, जिसका फायदा अच्छी Quality के 100% Original SEO Optimized Content लिखने वाले Bloggers को होता है|

क्योंकि Google हमेशा अच्छी वेबसाइटस को ही Search Results के First Page पर Show करता है, फिर उससे थोड़े कम Quality वाले Results Second Page पर और ऐसे ही Google algorithm सबसे खराब क्वालिटी वाले blogs या articles को आखिरी Page पर Show करता है|

Google का Ranking Algorithm इतना Powerful है की आज तक खुद Google Company के अलावा और कोई इसके काम करने के तरीके के बारें में नहीं जान पाया है|

एल्गोरिथम के फायदे और नुक्सान – Advantages and Disadvantages of Algorithm in Hindi.

किसी भी Task को छोटे छोटे Subtasks में Divide करके आसानी से Stepwise Procedure के जरिये उसका समाधान निकालना, Algorithm का इससे बड़ा फायदा भला क्या हो सकता है! लेकिन फिर भी आइये Algorithm in Hindi के कुछ ख़ास फायदों और कुछ नुकसानों के बारें में जानते है|

Pros

  • Algorithm kya hai, ये किसी भी  Problem का Solution निकालने की  Stepwise Process है, जिस वजह से इसे समझना आसान हो जाता है|
  • Algorithm के हर स्टेप का एक  Logical  Sequence होता है, इसलिए इसे Debug करना आसान हो जाता है|
  • Algorithm का इस्तेमाल करके समस्या को छोटे pieces या steps में breakdown कर दिया जाता है| इसीलिए Computer Programmer के लिए इसे Actual Program में Convert करने में आसानी होती है|
  • Algorithm in Hindi प्रोग्राम की  Blueprint के रूप में काम करता है और  Program Development के दौरान मदद करता है|
  • कोई भी एल्गोरिथम एक निश्चित प्रक्रिया का उपयोग करता है|
  • पहले Algorithm को लिखना, फिर इसे Flow Chart में Convert करना और फिर इसे  Computer Program में परिवर्तित करना काफी आसान है|
  • Algorithm कोई भी  Programming  Language पर Dependent नहीं होता है,  इसलिए Programming Knowledge के बिना भी इसे समझना हमारे लिए आसान होता है|
  • Algorithm Decision Making Process को आसान बनाता है|
  • एक बार एल्गोरिथम बनाने के बाद इसके मुताबिक़ किसी भी Computer Programming  Language में Code लिखे जा सकते है|
  • Particular Task को पूरा करने के लिए हमें किन किन चीजों की जरूरत होगी वो पहले से  Decide हो जाता है|

Cons

  • एल्गोरिथम लिखना और फ्लो चार्ट बनाना एक बहुत ही Time Consuming प्रक्रिया है|
  • Algorithm की मदद से बड़े tasks करने में काफी मुश्किल होती है|
  • एल्गोरिथम में  Branching  और  Looping  दर्शाना काफी मुश्किल है|
  • Complex Logic को algorithms की मदद से समझना बहुत मुश्किल होता है|

Algorithm कैसे बनाते है? – Examples of Algorithm in Hindi

What is Algorithm in Hindi जानने के बाद आइये देखते है Algorithm के कुछ आसान उदाहरण,

Example 1: Print 1 to 20 (प्रिंटर द्वारा एक से बीस नंबर के पन्नों को प्रिंट करने का एल्गोरिथम)

Step 1 – Initialize X as 0

Step 2 – Increment X by 1

Step 3 – Print X

Step 4 – If X is less than 20 then go back to step TWO

Example 2: Determine Whether A Student Passed the Exam or Not – (छात्र ने परीक्षा उतीर्ण की या नहीं चेक करने का एल्गोरिथम)

Step 1 – Input grades of FOUR courses M1, M2, M3 and M4,

Step 2 – Calculate average grade with formula “Grade=(M1+M2+M3+M4)/4”

Step 3 – If average grade is less than 60, print “FAIL”, else print “PASS”

Example 3: Convert Temperature from Celsius () to Fahrenheit () – तापमान को सेल्सियस से फ़ारेनहाइट में बदलने का एल्गोरिथम

Step 1 – Read temperature in Celsius (℃)

Step 2 – Calculate temperature with formula T(°C) = (T(°F) – 32) × 5/9

Step 3 – Print T(°C)

Example 4: Algorithm to find largest of three given numbers (तीन अंकों में से सबसे बड़ी संख्या का पता लगाने का एल्गोरिथम)

Step 1 – Start

Step 2 – Declare Variables x,y and z

Step 3 – Read variables x,y and z

Step 4 – if x>y

If x>z

Display X is the Largest Number

Or Else

Display C is the Largest Number

Or Else

If b>c

Display B is the Largest Number

Else

Display C is the Largest Number

Step 5 – Stop

Example 5: Check weather a number is positive or negative (नंबर पॉजिटिव है या नेगेटिव, चेक करने का एल्गोरिथम)

Step 1 – Print “Give Any Number”

Step 2 – Read Number

Step 3 – if (num==0) print “You entered 0”

Step 4 – if (num>0) print “You entered a positive number”

Step 5 – if (num<0) print “You entered a negative number”

ऊपर बताए गए Algorithm Kya Hai के पाँचों उदाहरणों की तरह Stepwise Algorithm का उपयोग Daily Life से लेकर Science, Maths, Artificial Intelligence और Computer Programming तक किया जाता है| जिससे समस्याओं का Step by step process से समाधान मिल पाता है|

Examples की तरह Algorithm लिखने से Process के सभी Steps Clear हो जाते है,  फिर इसे Computer Programming Language में Coding के जरिये Insert किया जाता है| जिससे फिर Tasks Perform होते है|

निष्कर्ष – Conclusion

आपने देखा कैसे चाय बनाने से लेकर जटिल प्रोग्रामिंग करने तक Algorithm यानी Stepwise Process का इस्तेमाल किया जाता है|

तो उम्मीद करते है इस आर्टिकल से आपको Algorithm in Hindi से लेकर Types of algorithm, Uses of Algorithm, Characteristics of Algorithm और Examples of Algorithms तक हर एक टॉपिक समझ आ गया होगा, फिर भी Algorithm को लेकर अगर आपके दिमाग में कोई सवाल है तो आप हमसे कमेंट करके पूछ सकते है, हमें आपकी मदद करके ख़ुशी मिलेगी|

आर्टिकल पसंद आया हो तो इस जानकारी को अपने सभी Social Media Handles पर दोस्तों के साथ शेयर जरुर कीजिये, और जानकारी से भरपूर ऐसे ही आर्टिकल्स पढ़ते रहने के लिए हमारे ब्लॉग Techbagz पर विजिट करते रहियेगा, हमारा यह आर्टिकल पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here