Gold Hallmark Kya Hai

Gold Hallmark Kya Hai. यदि अभी तक आप सोना खरीदते वक्त हालमार्क की जांच नहीं करते थे तो आपको इससे होने वाले नुकसान के बारे में जरूर जानना चाहिए इसलिए सरकार ने भी 15 जून 2021 से हालमार्क वाले आभूषण बेचना अनिवार्य कर दिया है। हालाकी ऐसे सुनार जिनका साल का turnover 40 लाख से नीचे है उन्हें इससे छूट दिया गया है।  

हालमार्क से आपको क्या फायदा हो सकता है और हालमार्क लगे हुए सोने का रेट कैसे तय होता है ये सारी जानकारी इस आर्टिकल में दी हुई है। इतना ही नहीं यदि कोई jeweller हालमार्क का licence लेना चाहता है तो उसके बारे में भी जानकारी आपको मिल जाएगी।

सोना खरीदते वक्त हालमार्क कैसे chek करना है और आपके jewellery पर लिखे alphabets का मतलब भी इस आर्टिकल में आपको पता चल जाएगा।

Contents hide
1 Gold Hallmark Kya Hai

Gold Hallmark Kya Hai

Gold Hallmark Kya Hai. किसी भी कीमती सामग्री में, कीमती धातु जैसे सोना और चांदी का कितना हिस्सा मौजूद है इस बात की आधिकारिक तरीके से सटीक गणना करके उसे उस सामग्री पर चिन्ह के माध्यम से दर्शाना hallmarking कहलाता है और जिस जिन्ह से उसे दर्शाया जाता है उसे हालमार्क कहा जाता है।

अतः हम ये कह सकते हैं की हालमार्क किसी भी कीमती वस्तु की शुद्धता की आधिकारिक गारंटी है। सभी देश अपने-अपने तरीके से हालमार्क लगाते हैं। वर्तमान समय में कीमती वस्तु में भारत में केवल सोना और चांदी को हालमार्क किया जाता है।

भारत में हालमारकिंग का काम BIS (bureau of Indian standard) द्वारा किया जाता है। ये भारत की राष्ट्रीय मानक संस्था है जिसे BIS Act 2016 के अंतर्गत स्थापित किया गया है।

बीआईएस(BIS) हालमार्क का इतिहास। Hallmark ki sthapna

Gold Hallmark Kya Hai. जैसा की आपको पता है भारत में सोने और चांदी पर हॉल्मार्क का काम BIS की संस्था करती है। इसलिए BIS का इतिहास ही हालमार्क का इतिहास है।

BIS को 26 नवंबर 1986 में एक संसद अधिनियम के अंतर्गत लाया गया और इसे 1 अप्रैल 1987 से लागू किया गया। इसके पहले मानकीकरण का काम ISI यानि Indian standard Institution करती थी लेकिन इसकी सबसे बड़ी कमी ये थी की ये किसी कानून के अंतर्गत काम नहीं करती थी इसलिए 26 नवंबर 1986 को एक बिल पेश किया गया और BIS हालमार्क की स्थापना हुई।   

अभी हाल ही में BIS हालमार्क में कई तरह के बदलाव किये गए हैं जैसे की पहले आपके आभूषण पर bis hallmark, purity, logo of hallmarking institution,year of hallmarking और jeweller’s logo होता था लेकिन आज के समय में year of hallmark को हटा दिया गया है।



सोने पर हालमार्क के निशान कैसे पहचाने। Hallmark के nishaan

BIS हालमार्क में वर्तमान समय में 4 तरह के निशान होते हैं जो चार तरह की जानकारी देते हैं। इसमें सबसे पहले BIS logo, purity and fineness, logo of hallmarking/assay centre, jewellers logo।

लेकिन यदि आपने 2017 के पहले का हालमार्क वाला सोना या चांदी खरीदा है तो आपके आभूषण पर हालमार्क के 5 तरह के निशान होंगे जो पाँच तरह की जानकारी देते हैं। जिसमें अभी के चार निशान के साथ एक और निशान जो year of hallmarking का था जो उस समय 4th स्थान पर था और उसे अंग्रेजी के alphabets के letter से दर्शाया जाता था। 

यदि आप सोने पर बने हुए हालमार्क को पहचानना चाहते हैं तो आपको नीचे दिए गए एक-एक बिन्दु को ठीक से पढ़ना चाहिए। तो चलिए सोने या चांदी पर बने हालमार्क के सभी निशान के बारे में जानते हैं-

Gold Hallmark Kya Hai. आपको अपने हालमार्क वाले सोने या चांदी के आभूषण पर सबसे पहले BIS यानि भारतीय मानक ब्यूरो का लोगो देखने को मिलेगा जो थोड़ा सा त्रिकोण के आकार से मिलता जुलता है।

ये लोगो इस बात की पुष्टि करता है की उस आभूषण के मानकीकरण में भारतीय मानक ब्यूरो की मदद ली गई है और आप उसकी शुद्धता पर यकीन कर सकते हैं।

आभूषण की शुद्धता और बारीकी ( Purity in carat and fineness of article)

सोना लेते समय उसकी शुद्धता की जानकारी होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि इसी के आधार पर उसकी कीमत तय होती है। चूंकि शुद्ध सोना काफी मुलायम होता है इसलिए इसके आभूषण बनाते समय इसमें अन्य धातु की मिलावट की जाती है।

सोने के आभूषण में अलग-अलग मात्रा में धातु की मिलावट की जाती है। बीआईएस के अंतर्गत 14,18,20,22,23 और 24 carat के सोने का मानकीकरण किया जाता है।

इसमें सोने के carat के हालमार्क को दर्शाने के लिए k का इस्तेमाल किया जाता है। जैसे की 18 carat को दर्शाने के लिए 18k लिखा जाता है। सोने की शुद्धता को प्रतिशत मे carat के सामने लिखा जाता है। जैसे की 18 carat सोने में 75% शुद्ध सोना होता है इसलिए इसे दर्शाने के लिए 750 लिखा जाता है।



वर्तमान समय में आपको नीचे दिए गए तरीके से purity and fineness की hallmarking देखने को मिलेगी-

  • 22K916
  • 18K750
  • 14K585

हालमार्क केंद्र का लोगो(Logo of hallmarking/assay centre)

सोने के हालमार्क में जो तीसरी चीज होती है वो है assay centre का लोगो। आभूषणों पर हालमार्क करने के लिए अपने देश में बहुत सारे assay centre हैं जिन्हें BIS द्वारा संचालित किया जाता है। इन सभी assay centre का अपना लोगो है।

Jewellers जिस assay centre पर अपने सोने को हालमार्क करने के लिए भेजता है उस centre का लोगो भी हालमार्क निशान में छापा जाता है। जो भी jeweller अपना आभूषण assay centre पर हालमार्क के लिए भेजना चाहते हैं उनके पास BIS registration होना अनिवार्य है।

सोनार या आभूषण बनाने वाले का लोगो ( logo of registered jewellers/manufacturer)

सोने की hallmarking में चौथे स्थान पर उस jeweller का logo या identification होता है जिसके यहाँ से आप आभूषण खरीदते हैं। यदि आप ऐसे दुकानदार से खरीदारी करते हैं जिसके पास खुद का BIS registration नहीं है तो वो आपको किसी अन्य BIS registered jeweller के जरिए आभूषण उपलब्ध कराता है ऐसे में आभूषण पर उस jeweller का लोगो होगा जो BIS से registered है।

नोट: यदि आपने 2017 के पहले सोने का आभूषण खरीदा है तो उसपर हालमार्क किये जाने वाले वर्ष को भी लिखा गया होगा। इसे अंग्रेजी alphabet के जरिए दर्शाया जाता है। जैसे की वर्ष 2000 की जगह A लिखा होगा।

सोने के ईंट और सिक्के पर हालमार्क करने का तरीका

सोने के ईंट और सिक्के पर हालमार्क के निशान थोड़े से अलग ढंग से होते हैं लेकिन इनमे भी चार तरह के निशान होते हैं। इनके बारे में संक्षेप में नीचे दिया गया है।



  • BIS standard mark (बीआईएस का मार्क)
  • Fineness (शुद्धता)
  • Name/identification of the manufacturer (निर्माता का नाम या पहचान)
  • Serial number

नोट: सोने के सिक्के का serial number उसके पैकिंग पर भी दिया जा सकता है.

BIS के अंतर्गत कितने-कितने carat के सोने पर हालमार्क किया जाता है?

IS 1417:2016 के अंतर्गत सोने के 14, 18 और 22 carat के सोने को हालमार्क करने की अनुमति है। लेकिन भारतीय मानक में एक संशोधन किया जा रहा है जिसके बाद 14, 18, 20, 22, 23 और 24 carat के सोने को भी हालमार्क किया जा सकेगा। 

सोने की शुद्धता को प्रतिशत में कैसे लिखा जाता है?

BIS Gold Hallmark, सोने की शुद्धता को प्रतिशत और carat के माध्यम से लिखा जाता है। लेकिन इसमें प्रतिशत को भी सीधे-सीधे नहीं लिखा जाता है इसलिए चलिए जानते हैं की कितने carat में कितना प्रतिशत सोना होता है?

14 carat: 14 केरेट सोने को 14k लिखा जाता है और इसकी शुद्धता के लिए संख्या 558 का इस्तेमाल किया जाता है जिससे 14k में उपलब्ध सोने की मात्रा का पता चलता है। 558 का मतलब है 55.8% सोने की मात्रा उस आभूषण में उपलब्ध है और बाकी अन्य धातु का मिश्रण है।

18 carat: 18k के सोने के लिए संख्या 750 का इस्तेमाल किया जाता है जिसका मतलब है 75%। हालमार्क में 18k के बाद 750 लिखा जाता है।

Gold Hallmark Kya Hai

20 carat: 20k के सोने में 83.3% सोना होता है और इसे लिखने के लिए अंक 833 का इस्तेमाल किया जाता है। इसके पहले BIS के अंतर्गत इसकी hallmarking नहीं की जाती थी लेकिन नए नियम आने के बाद शायद इसकी भी BIS hallmarking शुरू हो जाए।

22 carat: 22k के सोने में 91.60% सोना होता है और इसकी hallmarking के लिए अंक 916 का का इस्तेमाल किया जाता है। इस तरह के सोने का इस्तेमाल जटिल आभूषण बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि ये थोड़े मुलायम होते हैं और इस पर कारीगरी करनी थोड़ी आसान होती है।

23 carat: 23k के सोने में 95.83% शुद्ध सोना होता है जिसे दिखने के लिए 958 का इस्तेमाल किया जाता है। सोने के आभूषण बनाने में इनका इस्तेमाल कम होता है क्योंकि ये मुलायम होते हैं और आसानी से मुड़ सकते हैं।

24 carat : 24k का सोना शुद्ध सोना होता है और ये अधिकतर सोने के सिक्के या ईंट के रूप में पाया जाता है। इसमें 99.9% की शुद्धता होती है जिसे hallmarking के लिए 999 से दिखाया जाता है।

हालमार्क सोने का रेट। Hallmark gold price

वर्तमान समय, जून 2021 में हालमार्क सोने का रेट अलग-अलग शुद्धता के अनुसार कुछ इस प्रकार है-

  • 18 carat- 37,260 रुपये प्रति 10 ग्राम
  • 22 carat – 45,540 रुपये प्रति 10 ग्राम
  • 24 carat- 47,820 रुपये प्रति 10 ग्राम


Gold Hallmark Kya Hai. हालमार्क का उद्देश्य क्या है?

हालमार्क का उद्देश्य सोना खरीदने वाले ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचाना है। हालमार्क का होना सोने के आभूषण की शुद्धता की गारंटी है। हालमार्क से फर्जी और अशुद्ध सोने के आभूषणों की बिक्री पर लगाम लगाया जा सकता है।

हालमार्क से ग्राहक को फायदा

BIS Gold Hallmark, सोने पर BIS जैसे संस्था का हालमार्क होने की वजह से ग्राहक को इस बात का विश्वास और संतुष्टि होता है की वो जो भी सोना खरीद रहा है उसकी शुद्धता उसपर जैसा लिखा हुआ है उतना ही है।

हालमार्क वाले सोने की शुद्धता की गारंटी होती है इसलिए आप इसे कहीं से भी खरीद कर कही भी बेचेंगे तो आपको केरेट के अनुसार सही रेट मिलेगा लेकिन यदि आपने बिना हालमार्क वाला सोना खरीदा है तो सुनार आपको सही रेट नहीं देगा और आपने जहां से खरीदा है वहीं पर उसे बेचना भी सही रहेगा।

हालमार्किंग को कौन नियंत्रित करता है?

हालमारकिंग को भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) द्वारा नियंत्रित किया जाता है। देश भर में इसके regional branch office हैं जिनकी मदद से हालमारकिंग योजना को संचालित किया जाता है।

BIS हॉलमार्क लाइसेंस कैसे मिलेगा?

यदि आप jeweller हैं और आप चाहते हैं की आप भी अपने आभूषणों को BIS हालमार्क लगा कर बेचें ताकि आपके ग्राहक संतुष्ट हो और आपके वस्तु की शुद्धता पर लोग विश्वास करें तो इसके लिए आपको BIS registration कराना पड़ेगा।

इसके लिए आपको www.manakonline.in पर जाकर आवेदन करना होगा उसके बाद आपको इसका license मिल जाएगा और आप अपने सामान पर BIS का hallmark लगवा सकेंगे।

हालमार्क वाले सोने के jewellery की शुद्धता कैसे जांच कराएं?

BIS Gold Hallmark, यदि आपके पास कोई भी हालमार्क वाला सोने या चांदी का आभूषण है तो आप उसे BIS से मान्यता प्राप्त किसी भी assay/ hallmarking centre पर जाकर उसकी शुद्धता की जांच कर सकते हैं। इसके लिए आपको 200 रुपये का शुल्क देना होगा।

लेकिन किसी भी सोने के आभूषण पर हालमार्क लगवाने के लिए केवल BIS registered jeweller ही assay/hallmarking centre पर आवेदन कर सकता है। आम आदमी केवल उसकी जांच करने जा सकते हैं।

सोने पर हालमार्क लगवाने का कितना पैसा लगता है?

सोने के आभूषण पर हालमार्क लगवाने का प्रति piece 35 रुपये लगता है। इसके अलावा registered jeweller को consignment charge के तौर पर न्यूनतम 200 रुपये देने पड़ेंगे। इसके अलावा आपको सर्विस टैक्स और अन्य टैक्स अलग से देना पड़ेगा। 

एक बात का ध्यान रखें की कोई भी आम आदमी हालमार्क लगवाने के लिए हालमार्क केंद्र पर आवेदन नहीं कर सकता है। आम आदमी केवल जांच के लिए हालमार्क केंद्र जा सकता है।



निष्कर्ष:

सोने के आभूषण पर हालमार्क एक तरह निशान होता है जो BIS( भारतीय मानक ब्यूरो) द्वारा लगाया जाता है। इससे सोने की शुद्धता और अन्य कई चिन्ह होते हैं जिससे उस वस्तु की शुद्धता पर विश्वास किया जा सकता है।

आप जब भी सोने की कोई वस्तु खरीदे तो BIS हालमार्क जरूर देख लें नहीं तो आपके साथ धोखा हो सकता है। आपको नकली सोना असली दाम लेकर दिया जा सकता ही। हालमार्क में क्या निशान होते हैं और इसे कैसे पहचानते है इसकी सारी जानकारी हमने इस आर्टिकल Gold Hallmark Kya Hai में दी हुई है। इसे पढ़ने के बाद आप सोने पर लगे हालमार्क को बहुत अच्छी तरह से पहचान लेंगे।

यदि आपका कोई सवाल है तो कमेन्ट में पूछे हम जल्द ही उसका उत्तर देने की कोशिश करेंगे।

और पड़े:

Gpay Kaise Use Kare| Google Pay In Hindi.

Phonepe App Kya Hai. Kaise Use Kare.

Google Sheet Kya Hai| Google Spreadsheet In Hindi.

Best Google Chrome Extensions In Hindi.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here