Internal And External Linking Kya Hai

Internal And External Linking Kya Hai. आज हम आपके लिए बहुत ही interesting और SEO के नजरिये से बहुत ही important topic ले कर आये है।  आज का topic है, internal linking और external linking. आज हम आपको इस article में  internal linking और external linking की सारी जानकारी देंगे। 

Internal linking क्या है, External linking क्या है, internal और external linking कैसे करें, यह SEO के लिए कैसे और क्यों जरूरी है, इन सब बातों का जवाब आपको इस article में मिल जाएगा। तो चलिए सबसे पहले जानते है कि Internal linking और external linking होता क्या है।

Internal And External Linking Kya Hai

Internal links वह links होते है जो website को internally link करते है। ये links एक reader को एक website के एक page से उसी website के दूसरे page पर ले कर जाते है।

हम ऐसे भी कह सकते है कि ये वह links होते है जो एक ही website के अलग अलग  pages और blog posts को आपस मे connect करते है। ताकि जब reader उस website का कोई भी एक blog post या article पढ़े तो उस article में दिए गए internal links पर click करके दूसरा article भी पढ़ सके।

चलिए Internal And External Linking Kya Hai इसे हम एक उदाहरण के साथ समझते है। जैसे कि हमारी website है techbagz.com, और आज हम आपको internal linking और external linking के बारे में बता रहे है। और यह तो हम जानते ही है कि internal linking और external linking SEO के factors है।

लेकिन यदि आप एक beginner है और पहले SEO क्या होता है, ये जानना चाहते है, तो आप हमारा SEO क्या है और यह कैसे काम करता है” यह article पढ़ सकते है। अब यहां पर हमने techbagz.com के एक post में अपनी ही website के दूसरे post को लिंक किया है। ताकि जो भी reader हमारा यह article पढ़े और उसे SEO की जानकारी चाहिए हो तो वह हमारा दूसरा article भी पढ़ सके।

और इसे ही कहते है internal linking. एक website की किसी page या blog post में उसी website के किसी अन्य page या blogpost का link add करना ही internal linking कहलाता है।



What is External linking? External linking क्या है?

External linking वह links होते है जो एक website को दूसरी किसी अन्य website के साथ link करते है। यह links reader को एक website से दूसरी website पर ले जाते हैं। Internal links में जहां हम अपनी ही website के किसी page या blog post को अपनी post में link करते हैं, वहीं दूसरी ओर external links में हम किसी अन्य blogpost या किसी अन्य website के article को link करते है।

चलिए इसे एक उदाहरण के साथ समझते है। जैसा कि आप जानते ही है techbagz.com एक tech blog है। अब मान लीजिए हम अपनी किसी post या article को बेहतर समझाने के लिए अपनी किसी youtube video को भी link कर देते है। या फिर किसी technical term को समझाने के लिए या उसकी अधिक जानकारी के लिए wikipedia link attach कर देते है तो यह external linking कहलायेगा।

अब यदि आपको backlinks के बारे में knowledge है तो आपके मन मे एक सवाल जरूर आया होगा कि, external links ओर backlinks में क्या अंतर है? Actually इन दोनों में कोई अंतर नही है। Backlinks और external links दोनों same ही है।

आपकी website से किसी अन्य website को दिया हुआ link आपके लिए external link है और उसके लिए backlink. और किसी अन्य website से आपकी website को मिला हुआ link उसके लिए external link  होगा और आपके लिए backlink.

यदि आप नही जानते है कि backlinks क्या होते है, यह क्यो जरूरी है, और आप अपनी website के लिए high quality dofollow backlinks कसे बना सकते है, तो आप हमारा “Backlinks क्या है और Backlinks कैसे बनायेarticle पढ़े। इसमे हमने backlinks से related सारी जानकारी दी है।

उम्मीद है आपको यह तो समझ आ गया होगा कि internal links क्या होते है और external links क्या होते है। चलिए अब जानते है कि internal और external linking important क्यो होते है।

Internal And External Linking Kya Hai. Internal linking और External linking बाकी अन्य factors की तरह एक SEO factor है। और बाकी SEO factors की तरह यह भी आपकी website की visibility increase करने और आपकी website की ranking को improve करने में मदद करता है।

जैसे search engines अन्य factors को consider करते है आपकी website की ranking decide करने में वैसे ही internal और external links को भी consider किया जाता है।



Internal And External Linking Kya Hai. Benefits of Internal Linking:

  • Internal link Google और अन्य search engine crawlers को आपकी website crawl और index करने में मदद करते है। यदि आपकी website में internal links होंगे तो crawlers आपकी website को जल्दी crawl कर पाएंगे।
  • Internal links user engagement को increase करते है। यदि आपके content में कोई भी internal link नही होगा तो reader आपका केवल 1 ही article पढ़ कर आपकी website से चला जायेगा। और यदि आपने अच्छे से internal linking की होगी तो reader आपके एक से ज्यादा articles पढ़ेगा और इससे आपकी website का user enggement improve होगा।
  • जब भी कोई visitor आपकी website के internal links पर click करता है तो इससे आपकी website की ranking improve होने के chances increase हो जाते है। और साथ ही साथ इससे आपको organic traffic मिलता है।
  • External links आपकी website की domain authority increase करते है। इससे आपकी website  की backlink profile बेहतर होती है और आपकी website की ranking में भी सुधार आता है।
  • यदि आप अपनी website में relevant external links लगाते है तो इससे search engines को आपकी website के content को समझने में मदद मिलती है।

Internal और External linking कैसे करें?

Internal और external linking करते समय आपको सबसे पहले कुछ जरूरी चीज़ों का ध्यान रखना चाहिए, जैसे कि:

  1. आपको हमेशा relevant links ही add करने चाहिए।  जब लोगों को पता चलता है कि आप linking से अपनी website की ranking improve कर सकते है तो कुछ beginners बिना सोचे समझे, और बिना इसे सीखे अपनी website में internal और external links add करने लगते है।

जिससे उन्हें या तो कोई फायदा नहीं होता या बल्कि नुकसान ही हो जाता है। इसलिए आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हमेशा relevant website या relevant content को ही अपनी website में link करे। Irrelevant content की linking आपकी website की ranking पर negative impact भी डाल सकती है।

  1. दूसरी बात जिसका आपको ध्यान रखना है कि external linking करते समय आपको उस website की domain authority और उस website के content को एकबार जरूर check करना है जिसे आप अपनी website पर link करने जा रहे है। Low domain authority और Low quality content वाली websites आपकी rankings को नीचे भी गिरा सकती है।

आईये अब जानते है internal और external links कैसे बनाये।

Step 1: सबसे पहले आपको जिस blog post या article को link करना है उसका URL copy करना है।

Step 2: अब आप अपनी post में जहां भी उसे link करना चाहते है वहां जाना है। वहां आपको उसे एक text देना है, जो कि link add होने के बाद clickable हो जाएगा और जब भी आप या आपका reader उस text पर click करेगा तो linked page पर पहुंच जाएगा।

उदाहरण के लिए मान लीजिये आप लिखते है, “अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें”। और “यहां क्लिक करें” को आप clickable text बनाना चाहते है ताकि जब भी कोई इस पर click करे तो आपके link किये गए page पर पहुंच जाए।

Step 3: अब आपको उस text को select करना है जिसे आप clickable text बनाना चाहते है और right click करना है। यहां आपको interlinking का option दिखाई देगा।

Step 4: जब आप interlinking पर click करेंगे तो आपको URL enter करने का option दिखाई देगा। यहां आपको उस page का URL type करना है जिसे आप link करना चाहते है। (जो URL हमने step 1 से copy किया था उसे यहां paste करें।)

Step 5: अब आपको इसे save करना है और फिर अपनी post को भी save कर देना है। अब जब आप अपनी website को reload करके देखेंगे तो आपका link add हो गया होगा।

Internal links और external links add करने का process same ही होता है। बस आपको external links add करते समय यह चुनना होता है कि आप इसे nofollow link का tag देना चाहते है या dofollow link का।



Q. Internal linking और external linking में क्या difference है?

Ans. Internal linking में आप अपनी ही website के किसी page या blog post को link करते है। वहीं दूसरी ओर external linking में आप किसी अन्य website के  page को link करते है।

Q. आपको किन pages को link करना चाहिए?

Ans. आपको उन pages को link करना चाहिए जिन्हें आप rank करवाना चाहते है।

Q. आप कितने internal और external links add कर सकते है?

Ans. Links add करने की कोई limit नही होती। आप कितने भी links add कर सकते है। लेकिन आपको अपनी post को reader friendly बनाने के लिए एक limit में ही links add करने चाहिए। औसतन आप 1500 words के content में 2-3 links add कर सकते है।

Q. External links और backlinks में क्या अंतर है?

Ans. External links और backlinks same ही होते है।

Q. क्या आपको nofollow external links बनाने चाहिए या dofollow links?

Ans. इसके लिए आपको पहले dofollow backlinks और nofollow backlinks के बारे में जानना चाहिए। साथ ही  आपको जिस website को link करना है उसका domain authority और quality of content भी check करना चाहिए।

Conclusion

उम्मीद है आपको Internal And External Linking Kya Hai की सारी जानकारी मिल गयी होगी। यदि इससे related आपका कोई भी सवाल है या कोई भी query है तो आप निचे comment box में लिख सकते है। हम जल्द से जल्द आपके सवाल का जवाब देने का प्रयास करेंगे।

ये भी पड़े :

SEO Kya Hai? How Does Search Engine Optimization Work?

Backlink Kya Hai. Backlink Kaise Banaye.

SEO And Internet Marketing In Hindi.

Youtube Se Do-Follow Backlinks Kaise Banaye

Difference Between Facebook And Facebook Lite.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here