iPhone Operating System.

Apple iPhone Operating System क्या है.ios की परिभाषा: ios एक मोबाईल ऑपरेटिंग सिस्टम है जो की एप्पल द्वारा बनाया और विकसित किया गया है।

यह XNU kernel के Darwin पर आधारित है।वैसे आपने बहुत सारे ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में सुना होगा लेकिन ये बाकी ऑपरेटिंग सिस्टम से अलग है।

ऑपरेटिंग सिस्टम किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे कंप्युटर या मोबाईल फोन के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच एक पूल का काम करता है जो इन दोनों को जोड़ता है।पहले ios का नाम apple os था लेकिन बाद में बदलकर इसे iPhone os कर दिया गया।

ios  का पूरा नाम क्या है?ios  ka full form.

iPhone Operating System क्या है.ios का full form iPhone operating system है।हमने आपको ऊपर ही बताया की पहले इसका नाम apple os था.

2008 में इसे iPhone operating सिस्टम का नाम दिया गया।ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि पहले ये अपने ब्रांड नेम को दिखाता था लेकिन अब ये एक प्रोडक्ट को दिखाता था जो की काफी मशहूर हुआ।

iPhone Operating System को किसने बनाया

iPhone Operating System क्या है.चूंकि हमने आपको पहले ही बताया की ios  का नाम पहले apple os था और इसे 2010 में बदला गया इसलिए apple का इतिहास ही ios का इतिहास है।

सन् 1976 मे एप्पल को Steve Jobs, Steve Wozniak और Ronald Wayne ने मिलकर बनाया।हालांकि यह शुरुआत कंप्युटर के लिए थी लेकिन चूंकि हम ios  को ज्यादातर मोबाईल फोन में इस्तेमाल करते है इसलिए इसके ios के इतिहास को जानते हैं।

स्टीव जॉब्स ने 2007 में iPhone के लिए पहली बार ios को लॉन्च किया लेकिन उस समय इसका नाम iPhone os था।

2008 के पहले इसका कोई औपचारिक नाम नहीं था उसके पहले ये mac os X के नाम से जाना जाता था जो की विशेष कर iphone के लिए बनाया गया था।

इसे औपचारिक रूप से 7 जून 2010 को ios का नाम दिया गया। इसके पूरे इतिहास के लिए इसके ios वर्ज़न को देखते हैं।

iPhone Operating System version क्या क्या है?

iPhone Operating System क्या है.जिस तरह बाकी ऑपरेटिंग सिस्टम में समय समय पर बदलाव होते हुए अलग-अलग वर्ज़न निकाला जाता है उसी तरह से ios में भी वर्ज़न निकाला जाता है।

पहले चल रहे वर्ज़न में कमियों को सुधार कर और नई सुविधा देकर नया वर्ज़न निकाला जाता है।2007 से लेकर अभी तक के जितने भी वर्ज़न हैं चलिए सबके बारे में एक-एक करके जानते हैं।

ios BETA वर्ज़न क्या है?

iPhone Operating System क्या है.जिस तरह से सभी ऑपरेटिंग सिस्टम के लॉन्च होने से पहले beta वर्ज़न निकाला जाता है उसी तरह से ios की कमियों को भी सुधारने के लिए ios beta वर्ज़न लॉन्च किया जाता है.

जो कुछ लोगों को उपलब्ध कराया जाता है ताकि उसकी कमियों को सुधारा जा सके।इस समय हाल ही में ios का 14.0.8 beta वर्ज़न लॉन्च किया गया है जो की अभी टेस्टिंग में है।

ios version का इतिहास.

ios ऑपरेटिंग सिस्टम का beta वर्ज़न से लेकर अभी तक का सफर कैसा रहा ये जानने के लिए पूरा आर्टिकल पढ़ें।अब हम ios के सभी वर्ज़न के बारे में जानेंगे और किसमे क्या खासियत थी ये भी जानेंगे।

    • iPhone OS 1
    • iPhone OS 2
    • iPhone OS 3
    • ios 4
    • ios 5
    • ios 6
    • ios 7
    • ios 8
    • ios 9
    • ios 10
    • ios 11
    • ios 12
    • ios 13 / iPadOS 13
    • ios 14 / iPadOS 14

अब हम एक-एक करके iPhone के सभी वर्ज़न के बारे में जानेंगे.

    • iPhone os 1

iPhone Operating System क्या है.इसे 29 जून 2007 को लॉन्च किया गया हालांकि इसके लॉन्च होने की घोषणा एप्पल ने जनवरी में ही कर दी थी।

इसके लॉन्च होने के समय इसे कोई औपचारिक नाम नहीं दिया गया और आसान भाषा में सीधे बोल दिया गया की ये एप्पल डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम OS X का एक वर्ज़न है।यह पहला ऑपरेटिंग सिस्टम था जिसमे ipod touch में सपोर्ट करता था।

इसके बाद iPhone os 1.0 और iPhone os 1.1 भी लॉन्च किया गया।

    • iPhone os 2

एप्पल ने iPhone os 2 की घोषणा मार्च 2008 मे ही कर दी थी लेकिन लोगों को बाजार मे इसे 11 जुलाई 2008 को उपलब्ध कराया गया वो भी iPhone 3g के साथ।ये iPhone os 2 उस समय तक एप्पल के सभी उपकरण के साथ compatible था।

    • iPhone os 3

Apple ने iphone os 3 की घोषणा 17 मार्च 2009 को ही कर दी लेकिन इसे जनता को 17 जून 2009 को उपलब्ध कराया गया।

इसके रिलीज होने के बाद ये उस समय तक के एप्पल के सभी डिवाइस के साथ compatible था लेकिन सभी फीचर्स फोन में सही से नहीं चल रहे थे जिसका सुधार करते हुए उन्होंने iphone os 3.1.3 निकाला।

    • ios 4

एप्पल ने iPhone Operating System 4 की घोषणा 4 मार्च 2010 को ही कर दी थी लेकिन इसे लोगों तक 21 जून 2010 तक पहुंचाया गया।लेकिन इसके रिलीज होने पर एक समस्या ये आई की ये 1 st generation के iphone और ipod में सपोर्ट नहीं कर रहा था।

लेकिन ये iphone touch और ipod के second generation मे सपोर्ट करता था लेकिन उसेमें भी कुछ मुश्किलें थीं।ये apple os का पहला रिलीज था जिसमें ipod टच यूजर को ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए कोई पैसा नहीं देना था।

    • ios 5

एप्पल ने ios 5 की घोषणा 6 जून 2011 को अपने worldwide developers conference में ही कर दी थी और ये 12 अकतूबर 2011 को जनता को उपलब्ध कराया गया।इस रिलीज में सभी devices सपोर्ट कर रहे थे।

इसके बाद ios 5.1 रिलीज हुआ जो की ipod के 3rd generation में सपोर्ट करता था।12 अगस्त 2015 को इसका सपोर्ट बंद कर दिया गया।

    • ios 6 

Apple ने iPhone Operating System ios 6 की घोषणा 11 जून 2012 को ही कर दी लेकिन इसे लोगों को 19 september 2012 से उपलब्ध कराया गया।

ये ऑपरेटिंग सिस्टम ipod touch(3 rd generation) और ipad(1 st generation) में performance की कमी के कारण ठीक से सपोर्ट नहीं करता था।और ये केवल iPhone 3GS और iPod Touch (4th generation) में ठीक से चल रहा था।

    • ios 7 

एप्पल ने ios 7 की घोषणा 10 जून 2013 को की और 13 सितमबर को उसी साल लोगों तक पहुंचाया।इसके साथ ही उसने iPhone 5C और iPhone 5S को भी रिलीज किया।

ये ऑपरेटिंग सिस्टम iPhone 3GS में कुछ हार्डवेयर की कमियों से सपोर्ट नहीं करता था और iPod Touch (4th generation) में performance में गड़बड़ी के कारण नहीं चल सकता था। ये iPad 2 और iPhone 4 में भी ठीक से सपोर्ट नहीं करता था।

लेकिन iPhone 4S के बाद की device जैसे iPod Touch (5th generation), iPad (3rd generation), और iPad Mini (1st generation) में ये पूरी तरह सपोर्ट कर रहा था।

    • ios 8  

एप्पल ने ios 8 की 2 जून 2014 को घोषणा की और 17 सितमबर तक लोगों तक पहुंचाया और इसके साथ ही iPhone 6 और iPhone 6 Plus को लॉन्च किया गया।इस वर्ज़न में सिर्फ एक सेट iPhone 4 में सपोर्ट नहीं मिल रहा था बाकी सभी फोन सपोर्ट कर रहे थे।

लेकिन कई आइफोन जैसे  iPad 2, iPhone 4S, iPad (3rd generation), और iPod Touch (5th generation) के यूजर इससे संतुष्ट नहीं थे और उन्होंने काफी शिकायतें की।

इनके अलावा बाकी सभी devices पूरी तरह सपोर्ट कर रही थीं। इसके बाद पहली बार ios 8.3 का beta वर्ज़न लोगों को उपलब्ध कराया गया ताकि लोंग उसकी कमियों को पहले ही बता दें और उसे सुधारा जा सके।

    • ios 9

एप्पल ने 8 जून 2015 को इसकी घोषणा की और 16सितमबर 2015 तक लोगों को उपलब्ध कराया और इसके साथ ही  iPhone 6S, iPhone 6S Plus और iPad Mini 4 स्मार्टफोन लॉन्च किए ।

हालांकि ये ऑपरेटिंग सिस्टम सभी devices में सपोर्ट कर रहा था लेकिन कुछ devices जैसे  Apple A5 or A5X , iPhone 4S, iPad 2, iPad (3rd generation), iPad Mini (1st generation), और iPod Touch (5th generation) में कुछ समस्याएं आ रही थीं।

हालांकि ios के इतने सारे वर्ज़न निकलने के बाद भी इसमें बहुत सारी कमियाँ थीं और यूजर के complain आ रहे थे।

    • ios 10

एप्पल ने इसकी घोषणा 13 अप्रैल 2016 को की और 13 september 2016 को इसे लोगों तक पहुंचाया गया इसके साथ ही  iPhone 7 और iPhone 7 Plus को भी रिलीज किया गया।

इस वर्ज़न में जो भी iphone  A5 या A5X processor पर काम कर रहे थे उन्होंने सपोर्ट करना बंद कर दिया।हालांकि  iPhone 5S के बाद के जितने  भी फोन थे सभी सपोर्ट कर रहे थे।

    • ios 11

एप्पल ने इसकी घोषणा 5 जून 2017 को की और लोगों तक 19 सितमबर 2017 तक पहुंचा इसके साथ ही iPhone 8 और iPhone 8 Plus को भी लॉन्च किया गया।इस रिलीज के साथ 32-bit के जितने भी फोन थे जैसे की iPhone 5, iPhone 5C, और  iPad (4th generation) उन्होंने सपोर्ट करना बंद कर दिया।

लेकिन  iPhone 6S के बाद के जितने भी सेट थे वो पूरी तरह सपोर्ट कर रहे थे। इसके बाद ios 11.0, ios 11.1, ios 11.2, ios 11.3  और ios 11.4 भी रिलीज किए  गए।

    • ios 12

एप्पल ने 4 जून 2018 को इसकी घोषणा की और 17 सितमबर 2018 को रिलीज किया साथ ही iPhone XS, iPhone XS Max और iPhone XR को भी लॉन्च किया।ये ios सभी iphone में सपोर्ट कर रहा था और लगभग सभी devices में चल सकता था।

लेकिन कुछ फोन सेट जिसमे  Apple A7 या A8 का प्रोसेसर लगा हुआ था जैसे iPhone 5S, iPhone 6/6 Plus, iPod Touch (6th generation), iPad Air, iPad Air 2, iPad Mini 2, 3, और 4 ईं सब में कुछ ना कुछ limitation थीं।

इस वर्ज़न में यूजर experience और परफॉरमेंस को और बेहतर बनाया गया।

    • ios 13/ipad os 13     

एप्पल ने 3 जून 2019 को Apple iPhone Operating System ios13 की घोषणा की और 19 सितमबर 2019 को रिलीज किया और साथ ही iPhone 11 series (11, 11 Pro, 11 Pro Max) की सीरीज भी लॉन्च की।

इसमे  A9+ devices मे dark mode और memoji जैसी सुविधाएं जोड़ी गईं।इस वर्ज़न के साथ ipad में कई सारे टैबलेट आधारित फीचर्स जोड़े गए और इसका ब्रांड नेम फिर से बदलकर ipad os रखा गया जिसके हिसाब से ios 13 का नाम अब ipad os 13 है।

इस वर्ज़न के आने के बाद ये ऑपरेटिंग सिस्टम उन सभी सेट में चलना बंद हो गया जिसमें ram 2 gb से कम था।इसके साथ ही जिन devices में A8/A8X या A9/A9X प्रोसेसर लगे थे ये उनमें भी ठीक से नहीं चलता था।

लेकिन  iPhone 7/7 Plus के बाद के जितने  भी एप्पल के devices थे ये उनमें पूरी तरह से ठीक से चल रहा था।वर्तमान समय में भी अभी यही चल रहा है।

    • ios 14/ipad os 14

iPhone Operating System क्या है.एप्पल ने 22 जून 2020 को इसकी घोषणा की और उसी दिन डेवलपर्स के लिए बीटा वर्ज़न निकाला गया लेकिन लोगों के लिए beta वर्ज़न 9 जुलाई 2020 को रिलीज किया गया।

अभी भी यह बीटा वर्ज़न में ही चल रहा है। उम्मीद है की ये ios 13 पर चल रहे iphone के साथ और भी हाल ही की devices में सपोर्ट करेगा।

इसमे कुछ नए फीचर्स आने की उम्मीद है जैसे की app लाइब्रेरी जो की ऐप्स को categorize करके एक पेज में दिखाएगा,carkey ये कार को अन्लाक करके उसे स्टार्ट करने की सुविधा देगा।

इसमे इनकमिंग कॉल पूरे स्क्रीन पर दिखाई ना देकर छोटे से बैनर में दिखाई देगा हालांकि पुराना वाला ऑप्शन भी उपलब्ध है आप अपनी इच्छा अनुसार चुन सकते हैं।

इस ios वर्ज़न का सपोर्ट A8, A8X, A9 और A9X chip के साथ पूरी तरह ठीक नहीं होगा उसमे कुछ limitation होंगी।

iPhone 7/7 Plus के बाद के जितने  भी सेट हैं जैसे  iPod Touch (7th generation), the iPad Pro (2nd generation), iPad (6th generation), iPad Air (3rd generation) और iPad Mini (5th generation) में ये पूरी तरह से सपोर्ट करेगा।

इसका एक और beta वर्ज़न अभी हाल ही में 9 सितमबर 2020 को लॉन्च किया गया है।

 ➡ SSL Certificate क्या है.

ios के competitors.

iPhone Operating System क्या है.वैसे ios अपनी खूबी के लिए जाना जाता है चूंकि इसका प्राइस अधिक है लेकिन फिर भी ये दुनिया में मशहूर है।

इसका सबसे बड़ा competitor एंड्रॉयड है लेकिन यदि और गहराई में जाएं तो एंड्रॉयड भी इसका सीधा competitor नहीं है क्यूंकी ios का iphone एक अलग status दिखाता है जिनके पास अधिक पैसा है वो लोग इसे अधिकतर use करते हैं.

इसलिए एंड्रॉयड कितना भी बेहतर हो जाए कुछ लोग जिन्हे ios पसंद है और उनके पास पैसा है वो इसे जरूर खरीदेंगे। इसके अलावा इसके कुछ और competitor है जो की इतने मशहूर नहीं हैं लेकिन फिर भी मार्केट में उन्होंने एक जगह बनाया हुआ है।

    • harmony os.
    • Lg os.
    • Samsung.
ios की खूबी,why ios  is unique?

ios इतना महंगा होते हुए इतना popular है तो इसकी कुछ न कुछ खासियत तो होगी ही।चलिए आगे इसकी कुछ खासियत के बारे में जानते हैं जो iphone को अनोखा बनाता है।

    1. Apple का iPhone आपकी status को दिखाता है की आप कितने अमीर है और आपके पास अधिक पैसा है। हालांकि ऐसा नहीं है की सब लोग जिनके पास अधिक पैसा होता है वो iPhone लेते हैं लेकिन ज्यादातर iPhone लेने वाले अधिक अमीर होते हैं।
    2. Performance: यदि iPhone के performance की बात की जाए तो क्या ही कहना।एंड्रॉयड का smartphone कुछ दिन चलने के बाद हैंग होना शुरू हो जाता है लेकिन वहीं Apple iPhone Operating System से बना iPhone हैंग नहीं करता।साथ ही इसमें काफी smooth performance देखने को मिलता है।
    3. Compatibility with hardware: आपको तो पता ही होगा की ios सिर्फ apple के प्रोडक्ट में इस्तेमाल होता है और ऐसा नहीं है की किसी और प्रोडक्ट में चले।इसे ऐसा बनाया जाता है की ये एप्पल के हार्डवेयर के साथ पूरी तरह से compatible हो और बिना कोई समस्या के चले।
    4. Security: Apple iPhone Operating System की security एंड्रॉयड के मुकाबले कहीं ज्यादा होती है ,इसमे आपको फालतू के app देखने को नहीं मिलते हैं।यदि आपको कोई नया app इंस्टाल करना है तो आप उसे सिर्फ प्ले स्टोर से ही डाउनलोड कर सकते है।और प्ले स्टोर के सभी ऐप्स को एप्पल बहुत बारीकी से चेक करता है की उसमे कोई security threat तो नहीं है।
    5. इसके साथ यदि आपका ios फोन खो जाता है तो उसे खोलना लगभग असंभव है इसलिए उसमे मौजूद आपका डाटा कोई इस्तेमाल नहीं कर सकता।हालांकि इसका लॉक तोड़ने के लिए पूरा डाटा डिलीट करना पड़ता है जिससे की आपकी जानकारी कोई और इस्तेमाल नहीं कर सकता।
ios का हिन्दी अर्थ -ios  meaning in hindi.

ios का हिन्दी मतलब आइफोन ऑपरेटिंग सिस्टम होता है अब आप ये सोच रहे होंगे की ये तो वही अंग्रेजी वाला ios का फूल फॉर्म है तो आप बिल्कुल सही सोच रहे है।

आप हो सकता है पूछें की Apple iPhone Operating System का हिन्दी अर्थ क्या होगा तो इसका भी जवाब वही होगा आइफोन ऑपरेटिंग सिस्टम क्योंकि ios इंग्लिश से निकला हुआ शब्द है और हर इंग्लिश का हिन्दी नहीं होता।

ios  hindi keyboard.

बहुत सारे लोग ios में हिन्दी कीबोर्ड नहीं ढूँढ़ पाते है चलिए हम बताते हैं की apple iphone में हिन्दी टायपिंग को कैसे चालू करते हैं।

    1. setting पर जाएं
    2. general पर क्लिक करें
    3. add new keyboard पर क्लिक करें उसके बाद आपके सामने भाषाओं का लिस्ट खुलेगा उसमे हिन्दी चुने।उसमे आपको देवनागरी और transliteration का option मिलेगा आपको जो चाहिए उस पर क्लिक करें.

अब आपको टाइप करने के के लिए जो कीबोर्ड आपने चुना है उसे access करने के लिए –

    1. keybord खोलें
    2. नीचे बाएं किनारे पर एक sphere दिखेगा उस पर क्लिक करें
    3. Swipe करके हिन्दी पर लाएं और फिर छोड़ दें

इसके बाद आप ios में हिन्दी टाइप करें.

Conclusion:

iPhone Operating System क्या है.Ios की 2007 से अभी तक की यात्रा काफी अच्छी रही और लोगों ने इसे पसंद भी किया।हालांकि ये सिर्फ एप्पल मे चल सकता है यदि आप इसे किसी और डिवाइस में इस्तेमाल करने की कोशिश करेंगे तो शायद असफल हो जाएंगे।

यदि हम एक निष्कर्ष पर पहुंचे तो वो ये होगा की एप्पल ने अपनी जगह बहुत अच्छी तरह से बनाई हुई है।इतना महंगा होते हुए भी ये अपनी खूबियों की वजह से मार्केट में अभी तक चल रहा है और आगे भी इसे कोई हटा नहीं सकता।

हालांकि की इसकी कुछ कमियाँ भी हैं लेकिन लोग इसकी खूबी के पीछे कमियों को भूल जाते हैं।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here