Bengali Bengali English English Hindi Hindi Marathi Marathi

Optical Fibre क्या है.काम कैसे करता है.Types Of Fibre Cable.

Optical Fibre क्या है,आज हम दुनिया के जानकारी अपने मोबाइल पर इंटरनेट के माध्यम से पा सकते हैं.कभी आपने सोचा दुनिया के दूसरे छोर की जानकारी मोबाइल पर कैसे पहुंच जाती है?अगर नहीं सोचा है,तो कोई बात नहीं.आज आप इस आर्टिकल को लास्ट तक पढ़ने के बाद पूरी तरह समझ जाएंगे कि यह कैसे होता है.

दरअसल,इंटरनेट आज इतना एडवांस हो चुका है की दुनिया के किसी भी हिस्से की जानकारी दूसरे हिस्से में पहुंच जाता है.उसके पीछे का कारण ऑप्टिकल फाइबर है.

Optical Fibre क्या है-अलग नाम

Optical Fibre Cable को और भी कोई नाम से बोलै जाते है, जैसे –

    • Fiber Optical,
    • Optical Fiber Cable,(OFC)
    • Optical Cable या
    • Optics Fiber कहा जाता है.

चलिए तो आज आप को इस आर्टिकल में हम इसी Optical Fiber in Hindi के बारे में पूरी जानकारी देंगे.हम बताएंगे कि ऑप्टिकल फाइबर क्या है.ऑप्टिकल फाइबर कैसे काम करता है तथा ऑप्टिकल फाइबर के क्या फायदे हैं.

इसके अलावा Optical Fiber से जुड़ी कई और महत्वपूर्ण बातें आपको पता चलेगी.तो Fiber Optics के बारे में पूरी जानकारी के लिए इस आर्टिकल को लास्ट तक पढ़ें.चलिए, सबसे पहले यह जानते हैं कि ऑप्टिकल फाइबर क्या है.

ऑप्टिकल फाइबर क्या है – What is Optical Fiber

पहले Optical तथा Fiber इन दोनों शब्दों को समझ लें तो Optical Fiber समझने में आसानी होगी की Optical Fibre क्या हे  

Optical का मतलब प्रकाश या Light होता है.तथा Fiber का मतलब धागा या रेशा होता है.ऑप्टिकल फाइबर एक बेहद पतला लचीला तार होता है.ये तार वास्तव में बेहद पतला खोखला पाईप (Pipe) होता है.

इसकी मोटाई 10 माइक्रोमीटर के आसपास होती है.ऑप्टिकल फाइबर की मोटाई किसी इंसान के सिर के बाल से भी काफी कम होती है.

Optical Fibre क्या है-उपयोग.

Optical Fiber का उपयोग High Speed Data Transmission के लिए किया जाता है.यानी कि डेटा को एक जगह से दूसरी जगह भेजने के लिए इसको उपयोग किया जाता है.

Optical Fiber Data को light Puls के रूप में ट्रांसमिट करता है. ए एक बेहद पतला पाइप होता है.जिसके माध्यम से Data को एक जगह से दूसरी जगह ट्रांसफर किया जाता है.ऑप्टिकल फाइबर से डेटा भेजने के लिए डाटा को पहले Light Format में बदला जाता है.फिर इसे ऑप्टिकल फाइबर से दूसरी जगह पहुंचाया जाता है.यह शीशे या प्लास्टिक का बना होता है.

ऑप्टिकल फाइबर की Structure कैसी होती है हम आपको इस आर्टिकल में आगे विस्तार से बताएंगे.

ऑप्टिकल फाइबर काम कैसे करता है

अब तक आपने ये जान चुके हैं कि Optical Fibre क्या है.

अब हम बात करते हैं कि ऑप्टिकल फाइबर कैसे काम करता है.ऑप्टिकल फाइबर Total Internal Reflection के सिद्धांत पर कार्य करता है.

अब अगर आपने 10वीं तथा 12वीं के फिजिक्स में पढ़ा होगा.तथा आपको प्रकाश के परावर्तन का नियम याद होगा.तो आप समझ गए होंगे कि ऑप्टिकल फाइबर किस सिद्धांत पर आधारित है.

ऑप्टिकल फाइबर से डाटा को Light Format में गुजारा जाता है.पहले डाटा इलेक्ट्रिक पल्स के रूप में होते हैं.डाटा को ऑप्टिकल फाइबर भेजने से पहले इसे Light Puls में बदला जाता है.इसके बाद यह Light Puls के रूप में ऑप्टिकल फाइबर के द्वारा एक जगह से दूसरी जगह पहुंच जाते हैं.

जैसे ही ऑप्टिकल फाइबर इन डाटा को टारगेटेड सर्वर तक पहुंचाता है,ये पुनः इलेक्ट्रिक पल्स में बदल जाते हैं.डाटा का Electronic पल्स से Light Puls में बदलना Binary System पर आधारित होता है.

Optical Fibre Data Transfer

Data Transfer.

डाटा ट्रांसफर के लिए उपयोग करने की बड़ी वजह यह है कि ऑप्टिकल फाइबर से डाटा लाइट फॉर्मेट में गुजरते हैं.

चूंकि इस संसार में सबसे तेज गति प्रकाश यानी Light की ही है.आप जानते भी होंगे कि प्रकाश की गति 3 लाख किलोमीटर प्रति सेकंड है.यही कारण है कि डाटा को लाइट फॉर्मेट में बदला जाता है. यह काफी तेजी से ऑप्टिकल फाइबर की मदद से ट्रांसफर होता है.

ऑप्टिकल फाइबर के माध्यम से आमतौर से 100 किलोमीटर तक डाटा आसानी से भेजा जाता है.लेकिन दूरी अधिक होने पर डेटा ट्रांसफर की गति धीमी हो जाती है.

डाटा स्पीड को बेहतर बनाए रखने के लिए प्रत्येक 100 km के आसपास एंपलीफायर का उपयोग किया जाता है.यह एंपलीफायर ऑप्टिकल फाइबर में हाई स्पीड ट्रांसमिशन को बनाए रखने में मदद करते हैं.यही कारण है कि हजारों किलोमीटर तक डाटा का आदान-प्रदान आसानी से संभव हो पाता है.

सॉफ्टवेयर डेवलपर-Software Developer

Solar System In Hindi

संरचना- Structure

Optical Fibre क्या है – ऑप्टिकल फाइबर आमतौर से देखने में बाहर से काफी मोटा और मजबूत दिखता है.

लेकिन वास्तव में ऑप्टिकल फाइबर के जिस हिस्से से डाटा का आदान-प्रदान होता है वह बेहद पतला होता है.Optical Fiber Cable कितना पतला होता है, ये आप इससे समझ सकते हैं कि ऑप्टिकल फाइबर की मोटाई आपके बाल से भी कम होती है.

ऑप्टिकल फाइबर मूल रूप से Glass यानी शीशे का बना होता है.इसे Silica कहते हैं। इसके अलावा ये प्लास्टिक के भी बनते हैं.ऑप्टिकल फाइबर में इसके अलावा कई अन्य चीज़े भी उपयोग किए जाते हैं.

Optical Fiber Communication में जिस हिस्से से Data का आदान-प्रदान होता है.उस हिस्से को Core कहा जाता है.

Cladding :

Core के ऊपर एक दूसरी परत होती है.इसे Cladding कहा जाता है.

Cladding के ऊपर यानी ऑप्टिकल फाइबर का सबसे बाहरी परत मजबूत प्लास्टिक का बना होता है.इसे Outer Jacket या प्लास्टिक कोटिंग कहा जाता है.

इस हिस्से का मुख्य काम Optic Fiber Cable को मजबूती प्रदान करना तथा सुरक्षा करना होता है.

Optical Fibre क्या है – ऑप्टिकल फाइबर का सबसे प्रमुख हिस्सा यानी Core मूल रूप से Silica या Plastic का ही बना होता है.इसके अलावा Cladding भी इसी का बना होता है.लेकिन बाहरी परत प्लास्टिक के अलावा कई अन्य चीजों से भी बनाई जाती है.

Outer Jacket में किस तरह का मटेरियल उपयोग किया जाएगा,यह इस बात पर निर्भर करता है कि ऑप्टिकल फाइबर किस तरीके का बनाया जाएगा.आपको बता दें कि ऑप्टिकल फाइबर ऐसे होते हैं जो कि समंदर की गहराइयों में भी बिछाए जाते हैं.

समुंदर में बिछाए जाने वाले ऑप्टिकल फाइबर का Outer Jacket काफी मजबूत होता है ताकि वह लंबे समय तक पानी के अंदर सुरक्षित रहें.

तथा उसे कोई समुद्री जीव भी नुकसान न पहुंचा पाए.इसी तरह कुछ ऑप्टिकल फाइबर ऐसे होते हैं जो कि जमीन के नीचे दबाए जाते हैं.ऐसे में उन मटेरियल का उपयोग किया जाता है,जो कि मिट्टी से खराब ना हो.

इसी तरह कई जगह ऑप्टिकल फाइबर को खुले खंबे पर लटकाया जाता है.ऐसे में यहां ऐसे मटेरियल का उपयोग किया जाता है जो की खुली हवा में तथा धूप से भी खराब ना हो.

प्रकार-Types of Optical Fiber.

Optical Fibre क्या है – ऑप्टिकल फाइबर अपने बनावट तथा क्षमता के आधार पर अलग-अलग प्रकार के होते हैं.

बनावट के आधार पर बात करें तो ऑप्टिकल फाइबर दो प्रकार के होते हैं –

1. लूज़ ट्यूब केबल (Loose Tube Cable).

2. टाइट बफर्ड केबल (Tight-Buffered Cable)

1. Loose Tube Cable –

इस तरह के ऑप्टिकल केबल में Core की सुरक्षा के लिए पानी तथा विशेष तरह के Gel भरे जाते हैं.

यह जेल ऑप्टिकल फाइबर को खिंचने तथा टूटने से बचाता है.इसके अलावा  असामान्य तापमान होने पर भी यह जेल Core की सुरक्षा करते हैं.इसके अलावा ये पूरी केबल को भी सुरक्षा देता है.

2. Tight-Buffered Cable –

इस तरह के ऑप्टिकल फाइबर केबल Loose Tube Cable की तुलना में काफी मजबूत और सुरक्षित माने जाने हैं.

इसमें सुरक्षा और मजबूती की दृष्टि से 2 परतों का उपयोग किया जाता है.पहले परत में मजबूत पॉलीमर का उपयोग किया जाता है.इसके बाद प्लास्टिक की मज़बूत परत दी जाती है.इस तरह के केबल का उपयोग बड़े पैमाने पर किया जाता है.क्योंकि इसे काफी सुरक्षित मारा जाता है.

इसे उपयोग करना काफी आसान होता है.इसे मुड़ने या टूटने का भी ज्यादा खतरा नहीं होता है.मुड़ भी जाए तो समस्या नहीं होती है.

क्षमता के आधार पर ही ऑप्टिकल फाइबर के 2 प्रकार होते हैं.

i)  सिंगल मोड ऑप्टिकल फाइबर.

ii) मल्टीमोड ऑप्टिकल फाइबर.

सिंगल मोड ऑप्टिकल फाइबर (Single-mode optical fiber)

इस तरह के Optical Fiber Cable को Less Reflection Mode Cable भी कहा जाता है.

इस तरह के केबल में केवल प्रकाश की एक ही किरण यानी Single Ray के द्वारा ही डेटा ट्रांसफर होता है.क्योंकि इसमें केवल सिंगल रे के द्वारा ही डाटा ट्रांसफर किया जाता है.

ऐसे में इसमें डाटा काफी ज्यादा दूरी तय कर पाता है तथा डाटा काफी गति से ट्रांसफर होता है.इस तरह के ऑप्टिकल फाइबर में Core का डायमीटर काफी कम होता है.तथा इससे गुजरने वाले लाइट का वेव लेंथ (Wave Length)1310 nm से 1550 nm होता है.

लंबी दूरी तक डाटा ट्रांसफर करने के लिए ऑप्टिकल फाइबर का उपयोग किया जाता है.इस तरह के डाटा केबल में डाटा का नुकसान बिल्कुल ना के बराबर होता है.

मल्टीमोड ऑप्टिकल फाइबर (Multimode Optical Fibers)

इस तरह के ऑप्टिकल फाइबर के Core का डायमीटर अधिक होता है.तथा इसमें एक साथ कई सारे लाइट रे (Light Ray) के द्वारा डाटा ट्रांसफर होते हैं.

इस तरह के ऑप्टिकल फाइबर से गुजरने वाले लाइट का वेवलेंथ 850 से 1300 nm तक होता है.

यह एक विजिबल स्पेक्ट्रम तरह होते हैं.इस तरह के केबल का उपयोग आमतौर से एक छोटी दूरी तक ही डाटा ट्रांसफर करने के लिए होता है.

सिंगल मोड ऑप्टिकल फाइबर से पहले Multi-Mode Optical Fiber की ही खोज की गई थी.तथा इसी का उपयोग किया जाता था.लेकिन बाद में Single-Mode Optical Fiber की खोज की गई.

इस तरह Multi-Mode ऑप्टिकल फाइबर का उपयोग सीमित हो गया है.हालांकि अभी यह उपयोग किया जाता है.

फायदे- Benefits of Optical Fiber

ऑप्टिकल फाइबर उपयोग करने के कई फायदे हैं इनमें से कुछ महत्वपूर्ण फायदे निम्नलिखित है –

1. शॉर्ट सर्किट का खतरा नहीं –

चुकी ऑप्टिकल फाइबर से कोई बिजली नहीं बल्कि प्रकाश गुजरती है.ऐसे में ऐसे Cable में शॉर्ट सर्किट यानी Cable के जलने का खतरा नहीं रहता है.

इस कारण Data पूरी तरीके से सुरक्षित रहता है.

अगर कॉपर वायर से डाटा को गुजारा जाता है और आग लग जाती है तो पूरा डाटा खत्म हो जाएगा.इससे संचार व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा जाएगी.लेकिन ऑप्टिकल फाइबर में यह खतरा नहीं होता है.

2. विद्युत चुम्बकीय क्षेत्र से कोई खतरा नहीं –

Optical Fibre क्या है-ऑप्टिकल फाइबर पूरी तरीके से कुचालक यानी इंसुलेटर के बने होते हैं.ऐसे में इन पर विद्युत चुंबकीय क्षेत्र का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है तथा यह बिना किसी बाहरी हस्तक्षेप के कार्य करता है.

3. सुरक्षा –

आज के समय में डाटा सिक्योरिटी काफी बड़ा विषय है.आए दिन डाटा की चोरी का मामला सामने आता ही रहता है.लेकिन ऑप्टिकल फाइबर से डाटा को चुराना आसान नहीं है.

4. बैंडविड्थ –

कॉपर वायर की तुलना में देखे तो ऑप्टिकल फाइबर की बैंडविड्थ काफी बड़ी होती है.इस कारण इस पर डाटा काफी तेजी से ट्रेवल कर पाती हैं.

इसके अलावा ये लंबी दूरी तक भी डेटा आसानी से लाने,ले जाने में सक्षम होता है.High Bandwidth होने के कारण यह बड़ी आसानी से डाटा को ट्रांसफर कर पाने में सफल रहता है.

5. ऑप्टिकल फाइबर सस्ता पड़ता है –

अगर अन्य विकल्पों से तुलना करें तो इसका उपयोग काफी सस्ता पड़ता है.क्योंकि ऑप्टिकल फाइबर लंबे समय तक उपयोग में लिया जा सकता है.

6. डेटा का नुकसान नहीं होता –

इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि किसी भी डाटा का नुकसान नहीं होता है.चूंकि ऑप्टिकल फाइबर से Data प्रकाश के रूप में गुजरते हैं.

तथा ऑप्टिकल फाइबर इस तरीके से बना होता है कि वह लाइट किसी भी तरीके से अपने क्षेत्र से बाहर नहीं आते हैं.ऐसे में डाटा का नुकसान नहीं होता है.

Asked Questions – FAQs

Q: ऑप्टिकल फाइबर के निर्माण के लिए क्या उपयोग किया जाता है?

Ans. ऑप्टिकल फाइबर के निर्माण के लिए सिलिका या मल्टी-कंपोनेंट ग्लास का उपयोग किया जाता है।

Q: ऑप्टिकल फाइबर केबल के क्या लाभ हैं?

Ans: ऑप्टिकल फाइबर केबल के लाभ हैं: Data सुरक्षा, Cost Efdfective इत्यादि इत्यादि।  

Q: ऑप्टिकल फाइबर की बैंडविड्थ क्या है?

Ans:ऑप्टिकल फाइबर की बैंडविड्थ है 900 Thz

Q: ऑप्टिकल फाइबर कितने प्रकार की होते हे? 

Ans:ऑप्टिकल फाइबर दो प्रकार के होते हैं – 

    • लूज़ ट्यूब केबल (Loose Tube Cable).
    • टाइट बफर्ड केबल (Tight-Buffered Cable)

Q: Advantages of Optical Fibre ?

Ans : Optical Fibre की फायदा 

    • शॉर्ट सर्किट का खतरा नहीं
    • विद्युत चुम्बकीय क्षेत्र से कोई खतरा नहीं
    • सुरक्षा
    • बैंडविड्थ
    • सस्ता पड़ता है
    • डेटा का नुकसान नहीं होता
निष्कर्ष (Conclusion)

आज हमने जाना Optical Fibre की वारे में.ऑप्टिकल फाइबर क्या होता हे, कैसे इसकी वनावट हे.Optical Fibre internet की स्पीड increase के लिए बहुति जादा फायदाबंद होता हे.अगर किसी ने Optical Fibre Wi-Fi कनेक्शन use करते हे उनका इंटरनेट फ़ास्ट काम करता हे.Digital India वनाने के लिए Optical Fibre की जादा  योगदान रहेगा।     

 

 

 

Animesh Bhaumik
Hello Friends, Welcome to our site techbagz.com. मे Animesh Bhaumik a Commerce Graduate and Techbagz की टेक्निकल ऑथर एंड फाउंडर हे. नई नई टेक्नोलॉजी एंड others information ब्लॉग में पोस्ट करता रहता हु. अगर आपको इ सब आर्टिकल पसंद आता हे तो हमें बहुत खुसी होगा.We Techbagz Support Digital India.

Related Articles

UPI Kya Hai.UPI Details In Hindi

UPI Kya Hai.आजकल यूपीआई (UPI) का इस्तेमाल कर digital transaction करना काफी आसान हो गया है। नोटबंदी के बाद से ही सरकार digital payment...

Captcha Code Kya Hai

Captcha Code Kya Hai.कैप्चा कोड भरते समय आपके भी मन में आता होगा की ये क्या है और आपसे ये क्यों भरवाया जाता है।...

India Ka Full Form.

India Ka Full Form.आज भारत को हर जगह INDIA नाम से भी जाना जाता है। जब भी अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर बात होती है तो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

251FansLike
200FollowersFollow
200FollowersFollow
500SubscribersSubscribe

Latest Articles

%d bloggers like this: